नई दिल्ली: विराट कोहली (Virat Kohli) ने कहा है कि अतीत में कुछ आईपीएल फ्रैंचाइजी (Virat Kohli in IPL) ने अपनी टीम में शामिल करने का न्योता दिया है। कोहली ने हालांकि साफ किया कि उन्होंने रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (Royal Challengers Bangalore) के साथ ही रहने का फैसला किया। पूर्व भारतीय कप्तान ने पिछले साल RCB की कप्तानी छोड़ने का ऐलान किया था। कोहली लगातार आठ साल तक टीम के कप्तान (Kohli step down RCB Captain) रहे। कोहली अब इकलौते खिलाड़ी हैं जो आईपीएल की शुरुआत 2008 से एक ही फ्रैंचाइजी के लिए खेले हैं।

कोहली ने RCB के पॉडकास्ट पर कहा, ‘मुझे भी कई बार न्योता मिला- किसी तरह नीलामी में शामिल होने का- मैंने इसके बारे में सोचा।’ कोहली ने कहा, ‘आखिर में एक इनसान कुछ साल तक जीता है, और फिर आपका निधन हो जाता है और जिंदगी आगे बढ़ जाती है। अतीत में कई महान खिलाड़ी हुए हैं जिन्होंने ट्रॉफी जीती हैं और इस तरह की चीजें की हैं लेकिन कोई आपको उसके साथ नहीं बुलाते। अगर आप एक अच्छे इनसान हैं, तो लोग आपको पसंद करते हैं और अगर आप एक खराब इनसान हैं तो लोग आपसे दूर रहते हैं। आखिर में जिंदगी ऐसी ही होती है।’

विराट कोहली ने रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए कई बेहतरीन पारियां खेली हैं। बैंगलोर की टीम में हमेशा बड़े सितारे रहे हैं लेकिन टीम कभी भी आईपीएल का खिताब नहीं जीत पाई है।

विराट ने कहा, ‘RCB के साथ मैं अपनी वफादारी का पालन करता हूं, यह मेरे लिए उस बात से ज्यादा मायने रखती है कि चार लोग यह कहें कि तुमने आखिर XYZ टीम के साथ आईपीएल का खिताब जीता। आपको पांच मिनट के लिए अच्छा लग सकता है और छठे मिनट आपको जीवन में कोई अन्य परेशानी हो सकती है। इस फ्रैंचाइजी ने करियर की शुरुआत में जो तीन साल मुझे दिए और मुझमें भरोसा जताया वह मेरे लिए सबसे खास चीज है। कई टीमों के पास मौका था लेकिन उन्होंने मेरा साथ नहीं दिया। किसी ने मुझे पर भरोसा नहीं जताया।’

मुझे भी कई बार न्योता मिला- किसी तरह नीलामी में शामिल होने का- मैंने इसके बारे में सोचा।’ कोहली ने कहा, ‘आखिर में एक इनसान कुछ साल तक जीता है, और फिर आपका निधन हो जाता है और जिंदगी आगे बढ़ जाती है।

विराट कोहली

टीम के साथ अपने कप्तानी के कार्यकाल के बारे में बात करते हुए कोहील ने कहा कि साल 2016 के फाइनल में हारना आज भी दुख देता है। 209 रन के लक्ष्य का फीछा करते हुए 10 ओवरों की समाप्ति पर बैंगलोर की टीम का स्कोर बिना कोई विकेट खोए 114 रन था लेकिन इसके बाद टीम की पारी पटरी से उतर गई और वह 8 रन पीछे रह गई। कोहली ने कहा, ‘मुझे लगता है कि उस मैच में लिखा हुआ था, तुम फाइनल में कैसे पहुंच सकते हो बैंगलोर, हम उस मैच में शानदार तरीके से खेले थे। 9 ओवरो में हमारा स्कोर बिना किसी नुकसान के 100 रन था। केएल राहुल आज भी उस मैच की अगर हाईलाइट्स दिखाई जा रही हों तो उसके स्क्रीनशॉट लेते हैं, यह हार आज भी दुखती है।’

विराट कोहली (आईपीएल)

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here