नई दिल्ली14 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

अगले महीने से शुरू होने वाले इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) 2022 से पहले, चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) के अनलिस्टेड शेयरों की भारी डिमांड है। CSK एकमात्र IPL टीम है जिसके शेयर ट्रेडिंग के लिए उपलब्ध हैं। पिछले साल शेयर की कीमत 70-80 रुपए थी, जो अब 205-210 रुपए पर ट्रेड कर रहे हैं। यानी एक साल में 150% से ज्यादा का रिटर्न चेन्नई सुपर किंग्स ने दिया है। 2018 में CSK के शेयरों की कीमत 12-15 रुपए थी।

बीते दिनों IPL ऑक्शन के दौरान कोटक महिंद्रा AMC ने CSK के 1 लाख शेयरों को बेचने के लिए बोलियां आमंत्रित की थी। ये बोली 14 फरवरी से 30 दिनों के लिए है। IPL में लखनऊ और अहमदाबाद की टीमों के हायर वैल्यूएशन पर शामिल होने से CSK के इन्वेस्टर्स का कॉन्फिडेंस बढ़ा है। संजीव गोयनका के RPSG ग्रुप ने IPL की लखनऊ फ्रेंचाइजी को 7,000 करोड़ रुपए से ज्यादा की बोली के साथ खरीदा है। CVC कैपिटल ने अहमदाबाद फ्रेंचाइजी के लिए 5,625 करोड़ रुपए की बोली लगाई थी। BCCI ने 2,000 करोड़ रुपए का बेस प्राइस रखा था।

धोनी की टीम के शेयरों का भी जलवा: ipl से पहले चेन्नई सुपर किंग्स के शेयरों की भारी डिमांड, पिछले साल कीमत 70-80 रुपए थी अब 205-210 हुई

CSK IPL इतिहास की सबसे सफल टीम में से एक है। 2008 में स्थापित, एमएस धोनी की कप्तानी वाली टीम ने चार बार IPL खिताब जीता है और उसका जीत प्रतिशत सबसे ज्यादा है। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) इस साल 26 मार्च से शुरू होगी। लीग में 74 मैच होंगे और टूर्नामेंट का फाइनल 29 मई को खेला जाएगा।

ट्रेडर्स के लिए CSK में निवेश का बढ़िया अवसर
शेयर इंडिया सिक्योरिटीज के वीपी और हेड ऑफ रिसर्च रवि सिंह ने कहा, ‘ट्रेडर्स के लिए CSK में निवेश का बढ़िया अवसर है, क्योंकि इसकी प्राइस अर्निंग रेश्यू (PE ratio) इंटरनेशनल स्पोर्ट एक्टिविटी फ्रैंचाइजी की तुलना में बेहतर है। मर्चेंडाइज सेल्स, रॉयल्टी और स्पॉन्सरशिप से इसके रेवेन्यू के लगातार बढ़ने की संभावना है।’ इसके अलावा, कोविड संक्रमण के कम होने से स्टेडियमों में दर्शकों की भी एंट्री होगी। इससे टिकट की बिक्री होगा और रेवेन्यू जेनरेट होगा जो पिछले दो सालों से लगभग शून्य था।

धोनी की टीम के शेयरों का भी जलवा: ipl से पहले चेन्नई सुपर किंग्स के शेयरों की भारी डिमांड, पिछले साल कीमत 70-80 रुपए थी अब 205-210 हुई

अनलिस्टेड शेयर क्या होते हैं?
अनलिस्टेड शेयर उन्हें कहा जाता जो शेयर बाजार में लिस्ट नहीं होते हैं। इन्हें केवल प्राइमरी मार्केट से ही खरीदा जा सकता है। शेयरों को कंपनी अपने एम्पलॉइज या इन्वेस्टर्स को जारी करती है। ये ओवर द काउंटर मार्केट में ट्रेड होते हैं। इन्हें OTC सिक्योरिटीज भी कहा जाता है। अनलिस्टेड शेयर को इंटरमीडियरीज के माध्यम से खरीदा बेचा जा सकता है।

इंटरमीडियरी यानी ऐसी कंपनी जो अनिलिस्टेड शेयर को कंपनी के एम्पलॉई या इन्वेस्टर से जुटाकर अन्य निवेशकों को बेचती है। अनलिस्टेड कंपनी खरीद और ब्रिक्री का अंतर काफी ज्यादा हो सकता है। पहले केवल बड़े इन्वेस्टर्स ही इसमें निवेश कर सकते थे, लेकिन अब इंटरमीडियरीज के जरिए आम लोग भी अनलिस्टेड शेयर में निवेश कर सकते हैं।

देश की स्पोर्ट्स इंडस्ट्री की शेयर बाजार में बहुत कम मोजूदगी है। कॉस्को इंडिया, फिटनेस चेन चलाने वाली कंपनी तलवलकर और स्पोर्टस से जुड़े सामान बेचने वाली क्रेवाटेक्स जैसी कंपनियां ही शेयर बाजार में लिस्ट है।

खबरें और भी हैं…

Source

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here