Hi Friends are you looking Mirza Ghalib Shayari in Hindi on sad and love or Ghalib Ki Shayari for same topic, please visit this page. Mirza Ghalib Shayari in Hindi or Ghalib Ki Shayari.

गुजर जायेगा ये दौर भी ग़ालिब,
ज़रा इत्मीनान तो रख।
ख़ुशी ठहरी तो ग़म की,
क्या औकात है।
Gujar jaayega ye daur bhee Ghalib,
zara itmeenaan to rakh.
Khushee thaharee to gam kee,
kya aukaat hai.

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक,
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक.
Aah ko chaahie ik umr asar hote tak,
kaun jeeta hai tiree zulf ke sar hote tak.

ishq par jor nahin hai ye vo aatish gaalib
ki lagaaye na lage aur bujhaaye na bujhe
इश्क़ पर जोर नहीं है ये वो आतिश ग़ालिब
कि लगाये न लगे और बुझाये न बुझे

यही है आज़माना तो सताना किसको कहते हैं
अदू के हो लिए जब तुम तो मेरा इम्तहां क्यों हो
yahee hai aazamaana to sataana kisako kahate hain

हुई मुद्दत कि ग़ालिब मर गया पर याद आता है,
वो हर इक बात पर कहना कि यूँ होता तो क्या होता
huee muddat ki gaalib mar gaya par yaad aata hai,
vo har ik baat par kahana ki yoon hota to kya hota

हर एक बात पे कहते हो तुम के तू क्या है
तुम्ही कहो के ये अंदाज़-इ-गुफ्तगू क्या है
रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ायल
जब आँख हे से न टपका तो फिर लहूं क्या है
har ek baat pe kahate ho tum ke too kya hai
tumhee kaho ke ye andaaz-i-guphtagoo kya hai
ragon mein daudate phirane ke ham nahin qaayal
jab aankh he se na tapaka to phir lahoon kya hai

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here