नेटिज़न्स के अलावा, पूर्व भारतीय फ़ुटबॉल कप्तान बाइचुंग भूटिया, अभिनेता सुशांत सिंह, सुनील शेट्टी और कई भारतीय राजनेताओं ने सोशल मीडिया पर शाह हुजैब की फ़ुटबॉल चाल दिखाते हुए वीडियो साझा करके उनकी प्रशंसा की है। हुजैब ने 400 से अधिक ट्रिक शॉट रिकॉर्ड बनाए हैं।

जम्मू कश्मीर के युवाओं का रुझान खेलकूद के तरफ से लगातार बढ़ता जा रहा है। जम्मू कश्मीर के युवा अब खेलकूद के जरिए राज्य और देश का नाम रोशन करना चाहते हैं। आज हम आपको एक ऐसे ही कश्मीरी युवा के बारे में बताने जा रहे हैं जो ना सिर्फ केंद्र शासित प्रदेश को गौरवान्वित कर रहा है बल्कि पूरे देश में अपने जबरदस्त फुटबॉल ट्रिक शॉट्स के लिए भी प्रशंसा हासिल कर रहा है। इसके कई वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहे हैं। यह खिलाड़ी हैं शाह हुजैब। उनके ट्रिकशॉट्स के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गए हैं जिसके बाद उन्हें कश्मीर यंग अचीवर्स अवॉर्ड 2022 से सम्मानित किया गया है।

इसे भी पढ़ें: हुंडई विवाद के बाद ऑटोमोबाइल कंपनियों ने स्पष्ट की अपनी कॉर्पोरेट नीति, कही यह अहम बात

नेटिज़न्स के अलावा, पूर्व भारतीय फ़ुटबॉल कप्तान बाइचुंग भूटिया, अभिनेता सुशांत सिंह, सुनील शेट्टी और कई भारतीय राजनेताओं ने सोशल मीडिया पर शाह हुजैब की फ़ुटबॉल चाल दिखाते हुए वीडियो साझा करके उनकी प्रशंसा की है। हुजैब ने 400 से अधिक ट्रिक शॉट रिकॉर्ड बनाए हैं। बडगाम जिले के चरार-शरीफ इलाके के 20 वर्षीय छात्र शाह हुजैब अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल ट्रिक-शॉट प्रतियोगिता में जम्मू-कश्मीर के पहले प्रतिभागी बने। प्रभासाक्षी के साथ एक विशेष बातचीत में, शाह हुजैब ने इस बारे में खुलकर बात की। हुजैब ने बताया कि कैसे उन्होंने फ्रीस्टाइल फुटबॉल, कश्मीरी संस्कृति, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मंच पर पहचान, अन्य सभी चीजों को साथ लाने का फैसला किया है।

इसे भी पढ़ें: कश्मीर पर ट्वीट को लेकर डोमिनोज और होंडा ने माफी मांगी, कहा- भारतीय बाजार के लिए प्रतिबद्ध

उनकी उड़ान में पहला बड़ा पंख तब आया जब शाह हुजैब को लोकप्रिय यूट्यूब पेज पीपल आर कमाल पर दिखाया गया। उनके ट्रिक शॉट्स ने पांच मिलियन व्यूज बटोरे। तब से लेकर अब तक बिना किसी बाधा के हुजैब अपनी उड़ान भर रहे हैं। आज तक हुजैब को WION, ओह माई गोल, स्पोर्ट्सकीड़ा और कई अन्य मीडिया प्लेटफॉर्म पर प्रदर्शित किया गया है। 20 वर्षीय को इंडियाज गॉट टैलेंट सीजन 9 के लिए भी चुना गया था, जिसके लिए उन्होंने दिल्ली की यात्रा की थी। कश्मीर से बाहर निकलना उनके लिए सीखने की अवस्था थी और उन्होंने महसूस किया कि महानगरों में मान्यता की बहुत संभावनाएं हैं।

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here