Indian Premier League 2019 Mumbai Indians vs Chennai Super Kings MI vs CSK: इंडियन प्रीमियर लीग के 12वें सीजन का फाइनल मैच रोमांच की हद तक पहुंचा और आखिरी गेंद पर मैच का रिजल्ट निकला। मुंबई इंडियंस ने चेन्नई सुपर किंग्स को एक रन से हराकर आईपीएल खिताब अपने नाम किया। चार बार आईपीएल ट्रॉफी जीतने वाली मुंबई इंडियंस पहली फ्रेंचाइजी टीम बन गई है। फाइनल मैच के दौरान कुछ ऐसे भी पल आए, जिन पर विवाद खड़ा हो गया। चलिए हम आपको बताते हैं आईपीएल फाइनल मैच के तीन विवाद जो हमेशा रखे जाएंगे यादः

1- पोलार्ड का अंपायर से भिड़नाः मुंबई इंडियंस की ओर से कीरन पोलार्ड ने सबसे ज्यादा रनों का योगदान दिया। पोलार्ड ने नॉटआउट 41 रनों की पारी खेली। मुंबई इंडियंस की पारी के अंतिम ओवर में पोलार्ड लगातार वाइड की लाइन की ओर खिसक रहे थे और ब्रावो ने इसे भांपते हुए वाइड की लाइन के बाहर लगातार 3 खाली गेंद की। पहली गेंद पोलार्ड के बल्ले से लगी लेकिन बाकी 2 गेंद को अंपायर नितिन मेनन ने वाइड नहीं दिया। तीसरी गेंद के बाद पोलार्ड की हताशा साफ देखी जा सकती थी और उन्होंने बिना कुछ बोले बल्ला हवा में उछाल दिया। ब्रावो इसके बाद जब चौथी गेंद फेंकने के लिए बढ़े तो पोलार्ड ने स्टंप खाली छोड़ दिए और वाइड की लाइन की ओर बढ़ गए। गेंद फेंकने के लिए आगे बढ़ चुके ब्रावो को रुकना पड़ा, सभी हैरान रह गए, आखिर हो क्या रहा है। खेल भावना के विपरीत इस बर्ताव के लिए स्क्वायर लेग के अंपायर इयान गोल्ड और मेनन ने पोलार्ड को फटकार लगाई। इस हरकत के लिए पोलार्ड पर मैच फीस का 25 फीसदी जुर्माना भी लगाया गया है।

IPL 2019 Final MIvCSK: मुंबई इंडियंस बना चैंपियन, पोलार्ड को इस वजह से झेलना पड़ा जुर्माना

IPL 2019 Final MIvCSK: धौनी ने ली दोनों टीमों की चुटकी, जानिए मैच के बाद क्या कहा

2- इयान बिशप ने फैन्स से मांगी माफीः मैच के दौरान एक गेंद ऐसी थी, जो पूरे मैच का पासा पलट सकती थी। शेन वॉटसन बल्लेबाजी कर रहे थे, चेन्नई सुपर किंग्स की पारी का छठा ओवर था और लसिथ मलिंगा गेंदबाजी कर रहे थे। एक वाइड गेंद थी, जिसे अंपायर ने वाइड करार नहीं दिया। इस पर शेन वॉटसन ने मुंह से निकल गया  F*****ng Wide, यह कमेंट स्टंप माइक के जरिए टेलिकास्ट हो गया। जिस पर कमेंटेटर इयान बिशप ने ब्रॉडकास्टर की तरफ से माफी मांगी। अगर वो गेंद वाइड दी गई होती, तो मैच का नतीजा कुछ और हो सकता था।

3- धौनी का रनआउटः चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी का रनआउट होना, मैच का सबसे बड़ा टर्निंग प्वॉइंट था। हार्दिक पांड्या की गेंद पर शेन वॉटसन स्ट्राइक पर थे। वॉटसन ने शॉट खेला और दोनों खिलाड़ी रन के लिए भाग पड़े, पहला रन लेने के बाद दोनों ने दूसरा रन लेने का फैसला लिया। नॉनस्ट्राइकर एंड पर इशान किशन के थ्रो ने धौनी को रनआउट कर दिया। धौनी के रनआउट पर विवाद इसलिए खड़ा हो गया क्योंकि उनका बल्ला क्रीज तक पहुंच गया था। थर्ड अंपायर ने फैसला देने में काफी समय लगाया और लगातार रिप्ले देखने के बाद धौनी को आउट दिया। एक एंगल से देखने में लग रहा था कि धौनी लाइन पर पहुंच गए हैं, जबकि दूसरे एंगल से लग रहा था कि वो रनआउट हैं। ज्यादातर मौकों पर ऐसे में बल्लेबाज को बेनिफिट ऑफ डाउट दिया जाता है, लेकिन धौनी के साथ ऐसा नहीं हुआ और धौनी 8 गेंद पर 2 रन बनाकर आउट हो गए।

मुंबई इंडियंस ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवर में 8 विकेट पर 149 रन बनाए, जवाब में चेन्नई सुपर किंग्स की टीम 20 ओवर में सात विकेट पर 148 रन ही बना सकी। मैन ऑफ द मैच जसप्रीत बुमराह को चुना गया, चेन्नई सुपर किंग्स की ओर से शेन वॉटसन ने सबसे ज्यादा 80 रनों का योगदान दिया।
 

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here