बेंगलुरु: इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) की आखिरी मेगा नीलामी (IPL Mega Auction) शनिवार को होगी जिसमें श्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer) और शार्दुल ठाकुर (Shardul Thakur) जैसे खिलाड़ियों पर सभी फ्रेंचाइजी की नजरें होंगी इस साल इस से ज्यादा क्रिकेटर दस करोड़ से अधिक में बिक सकते हैं । गुजरात टाइटंस (Gujarat Titans) और लखनऊ सुपरजाइंट्स (Lucknow Supergiants) के जुड़ने के बाद दस टीमों की लीग के लिए दो दिवसीय नीलामी में 590 क्रिकेटरों की बोली लगेगी जिसमें 227 विदेशी खिलाड़ी शामिल हैं।

शार्दुल पर लग सकता है 20 करोड़ का दांव
इस साल दस से ज्यादा क्रिकेटरों पर दस करोड़ से अधिक की बोली लग सकती है और कुछ तो 20 करोड़ के आसपास भी जा सकते हैं। अय्यर सबसे महंगे (Shreyas Iyer Costliest) साबित हो सकते हैं जबकि शार्दुल (Shardul Thakur) और ईशान किशन (Ishan Kishan) पर भी अच्छी बोली लगने की उम्मीद है। अगर इनके लिए फ्रेंचाइजी में होड़ लग जाती है तो दाम काफी ऊपर जा सकते हैं। इनके अलावा दीपक चाहर (Deepak Chahar) और युजवेंद्र चहल (Yuzvendra Chahal) को भी दस करोड़ से अधिक मिलने की उम्मीद है।

मिडल ऑर्डर के बल्लेबाज और स्पिनर्स की जरूरत!
महेंद्र सिंह धोनी (चेन्नई सुपर किंग्स), विराट कोहली (रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर) और रोहित शर्मा (मुंबई इंडियंस) को उनकी टीमों ने बरकरार रखा है । टीमों की नजरें मध्यक्रम के बल्लेबाजों, कलाई के स्पिनरों और हरफनमौलाओं पर रहेंगी ।

केएल राहुल सबसे महंगे रिटेंशन, टीमों को चाहिए ‘गेम चेंचर’
केएल राहुल (17 करोड़) रिटेंशन में सबसे महंगे खिलाड़ी रहे हैं । दिल्ली कैपिटल्स के पूर्व कप्तान अय्यर पंजाब किंग्स (72 करोड़ पर्स), सनराइजर्स हैदराबाद (68 करोड़ पर्स) और राजस्थान रॉयल्स (62 करोड़ रूपये पर्स) जैसी टीमों को लुभा सकते हैं । इन टीमों को मध्यक्रम में ‘गेम चेंजर’ खिलाड़ी की जरूरत है।

ipl grpahics2

क्या होगी टीमों की ‘रणनीति’
धोनी की चेन्नई टीम जांचे परखे खिलाड़ियों पर भरोसा करेगी जबकि पंजाब और राजस्थान जैसी टीमें आदतन बचे हुए खिलाड़ियों में से चयन पर जोर देंगी । कोलकाता नाइट राइडर्स के पास मुंबई के पूर्व रणजी धुरंधर अभिषेक नायर हैं जो सीईओ वेंकी मैसूर के सबसे विश्वस्त सहयोगी हैं और नीलामी में उनकी चलती है । उनकी नजरें भी अय्यर पर रहेंगी । वरुण चक्रवर्ती जैसे फिटनेस समस्याओं से जूझते रहने वाले खिलाड़ी को बरकरार रखकर टीम ने हालांकि गलती की है क्योंकि अब उनके पास 48 करोड़ रूपये का पर्स ही बचा है ।

टीमों को 18 खिलाड़ियों की जरूरत
यह चूंकि मेगा नीलामी है और टीमों को कम से कम 18 खिलाड़ियों की जरूरत है तो भारतीय खिलाड़ियों (कैप्ड या अनकैप्ड) को टीमें हाथोंहाथ लेंगी। यही वजह है कि पिछले साल पर्पल कैप जीतने वाले हर्षल पटेल का बेसप्राइज दो करोड़ रूपये है और वह इससे पांच गुना अधिक पा सकते हैं। सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाजों में दूसरे स्थान पर रहे आवेश खान का बेसप्राइज 20 लाख रूपये है लेकिन यह 50 गुना बढ़ सकता है।

ipl grpahics

रहाणे और अश्विन का क्या होगा
टी20 में औसत प्रदर्शन करने वाले रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) और अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) को भी अच्छे दाम मिल सकते हैं जबकि अंबाती रायुडू (Ambati Rayudu) जैसे खिलाड़ी सात से आठ करोड़ रुपये में बिक सकते हैं।

खराब फॉर्म में चल रहे भुवनेश्वर कुमार (Bhuvneshwar Kumar) और कुलदीप यादव (Kuldeep Yadav) के भी बिकने की उम्मीद है। वहीं दीपक हुड्डा (Deepak Hooda) अब अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पहले दो मैचों में अच्छा प्रदर्शन करने के बाद टीमों को लुभा सकते हैं।

ipl grpahics6

वॉर्नर पर बरसेगा धन
विदेशी खिलाड़ियों में डेविड वॉर्नर (David Warner) फॉर्म में है और ऑस्ट्रेलिया के इस सलामी बल्लेबाज पर अच्छे दाम लगने की उम्मीद है। वह सलामी बल्लेबाज होने के साथ कप्तानी के भी दावेदार है जिन्होंने 2016 में सनराइजर्स हैदराबाद (Sunrises Hyderabad) को खिताब दिलाया था। लखनऊ सुपरजाइंट्स उन पर दाव लगा सकता है। वॉर्नर के अलावा वेस्टइंडीज के जैसन होल्डर (Jason Holder) की भी अच्छी मांग रहने की उम्मीद है चूंकि वह बड़े छक्के लगाने में माहिर हैं और उपयोगी मध्यम तेज गेंदबाज भी हैं ।

उनके साथी ड्वेन ब्रावो (Dwayne Bravo), ओडियन स्मिथ (Odean Smith) और रोमारियो शेफर्ड भी अच्छे दाम में बिक सकते हैं। तेज गेंदबाज कागिसो रबाडा (Kagiso Rabada) और विकेटकीपर बल्लेबाज क्विंटन डिकॉक (Quinton de kock के लिए भी टीमों में होड़ लग सकती है।

ipl grpahics7

इन घरेलू क्रिकेटरों पर होंगी नजरें
घरेलू क्रिकेटरों में एक शाहरूख खान , नीतिश राणा और राहुल त्रिपाठी पर नजरें होंगी । उन्हें स्टीव स्मिथ, जॉनी बेयरस्टॉ या इयोन मोर्गन जैसे दिग्गजों से अच्छे दाम मिल सकते हैं ।

अंडर 19 क्रिकेटरों में हरफनमौला राज अंगद बावा टीमों को लुभा सकते हैं। यश धुल की कप्तानी में भले ही भारत की अंडर 19 टीम ने विश्व कप जीता है लेकिन टीमों को पता है कि कई बार जूनियर प्रतिभायें आईपीएल स्तर पर नाकाम रहती हैं। कमलेश नागरकोटी, मनजोत कालरा और शिवम मावी के उदाहरण सामने हैं।

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here