दम नहीं किसी में की मिटा सके हमारी दोस्ती को,
जंग तलवारों को लगता है जिगरी यार को नहीं।
dam nahin kisee mein kee mita sake hamaaree dostee ko,
jang talavaaron ko lagata hai jigaree yaar ko nahin.

दिल से ख्याल-ए-दोस्त भुलाया न जायेगा,
सीने में दाग है की मिटाया न जायेगा।
dil se khyaal-e-dost bhulaaya na jaayega,
seene mein daag hai kee mitaaya na jaayega.

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here