Now at poetry tadka we are publishing new Hindi poems like motivational poems in Hindi, patriotic poem, teachers day shorts poems, desh bhakti poem in Hindi and many more Hindi poems at your loving website.

Laharon se darakar nauka paar nahin hoti 
koshish karane vaalon kee kabhi haar nahin hoti 
nanheen cheentee jab daana lekar chadhatee hai 
chadhatee deevaaron par sau baar fisalatee hai.
 
Man ka vishvaas ragon mein saahas bharata hai 
chadhakar girana, girakar chadhana na akharata hai 
mehanat usakee bekaar nahin har baar hoti 
koshish karane vaalon kee kabhi haar nahin hoti.

Dubakiyaan sindhu mein gotaakhor lagaata hai 
ja-ja kar khaalee haath laut kar aata hai 
milate na sahaj hee motee gahare paanee mein 
badhata doona vishvaas isee hairaanee mein 
mutthee usakee khaalee har baar nahin hoti 
koshish karane vaalon kee kabhi haar nahin hoti.
 
Asafalata ek chunautee hai, sveekaar karo 
kya kamee rah gaee dekho aur sudhaar karo 
jab tak na saphal ho, neend-chain ko tyaago tum 
sangharshon ka maidaan chhod mat bhaago tum. 

Kuchh kiye bina hee jay-jayakaar nahin hoti 
koshish karane vaalon kee kabhi haar nahin hoti.

Category : Hindi Poems

You and me
Like two dew drops
Meet you in the journey of life
The path that life took
Let’s go…
And then
Don’t know when
together into each other
became water
drowned in the ocean.
Yes you and me
Became one

Category : Hindi Poems

मोहब्बत का इरादा बदल जाना बी मुश्किल है

उन्हें खोना बी मुश्किल है और पाना बी मुश्किल है

ज़रा सी बात पर आंखें भिगो कर बैठ जाते है वो

उसे तो अपने दिल का हाल बताना बी मुश्किल है

यहाँ लोगो ने खुद पर इतने परदे दाल रखे है

किसी के दिल में क्या है नज़र आना बी मुश्किल है

मन के ख्वाब में मुलाक़ात होगी उनसे

पर यहाँ तो उसके बिना नींद आना बी मुश्किल है

औरो से क्या गिला अब तो आलम ये हे “हाल -ए- ज़िन्दगी ” खुद को समझाना बी मुश्किल है

इस मुश्किल में जो साथ दे मेरा अब उस हम सफ़र को धुंध पाना बी मुश्किल है

Category : Hindi Poems

में तेरे शहर में आया हू , खुद की महफ़िल सजाने आया हू

तेरे इश्क की इस आंधी में ,खुद को फिर मिटाने आया हू .

 

में भी तेरा दीवाना हू ,बस यही बात बताने आया हू

तेरे इश्क की मासूमियत में ,खुद को फिर लुटाने आया हू .

 

मैं भी कितना बांवरा हू ,यह तुझे जताने आया हू

तेरे इश्क के शहर में ,खुद की प्यास बुझाने आया हू .

 

तुम मेरी हो – तुम मेरी हो ,बस यही तुम्हें कहने आया हू

तेरे इश्क के शहर में ,खुद की महफ़िल सजाने आया हू

Category : Hindi Poems

आजकल ७० %लोग दुखी इसलिए है की बोलते समय सोचते नहीं क्या बोल रहे है काश ये ना बोला होता तो ऐसा ना होता फहले सोचिए फिर बोलिए !!

 

Category : Hindi Poems

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here