किसी से रोज मिलकर बातें करना दोस्ती नहीं,
बल्कि किसी से बिछड़ कर याद रखना दोस्ती है।
kisee se roj milakar baaten karana dostee nahin,
balki kisee se bichhad kar yaad rakhana dostee hai.

जो दिल को अच्छा लगता है उसी को दोस्त कहता हूँ,
मुनाफ़िक़ बनकर रिश्तों की सियासत मैं नहीं करता।
jo dil ko achchha lagata hai usee ko dost kahata hoon,
munaafiq banakar rishton kee siyaasat main nahin karata.

Attitude Friendship Shayari in Hindi.

Source by [author_name]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here